Sant Kabirdas Jayanti: Hindi Quotes Messages By Kabirdas

On 5th June, 2020, Sant Kabirdas celebrates his 643rd Birth Anniversary. Sant Kabirdas, a famous poet and a social reformer in the Indian subcontinent. Kabirdas’ writings and ideas influenced the further spread of the Bhakti Movement. Schools in India has also included Sant Kabir’s poems famously called as “Kabir Ke Dohe”.

Born in the 15th Century, Varanasi, in a Muslim family, Sikhs adopted his verses in Guru Granth Sahib, and Kabir being strongly influenced by Hinduism, Sant Kabirdas’ ideas are widely followed across India. The followers of Sant Kabirdas are known as Kabir Panthi.

Also Read: Vat Savitri Vrat Status Messages, Quotes and Images

Hindi Dohe Quotes and Messages By Sant Kabirdas

“हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना, आपस में दोउ लड़ी-लड़ी मरे, मरम न जाना कोई।”

” काल करे सो आज कर, आज करे सो अब, पल में प्रलय होएगी, बहुरि करेगो कब।”

“धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय, माली सींचे सौ घडा, ऋतू आए फल होए।”

“निंदक नियरे राखिए, आंगन कुटी छवाय, बिना पानी, साबुन बिना, निर्माण करे सुभाय।”

“मांगन मरण समान है, मति मांगो कोई भीख, मांगन ते मरना भला, यह सतगुरु की सीख।”

“साईं इतना दीजिए, जा में कुटुम समाय, मैं भी भूखा न रहूँ, साधू न भूखा जाए।”

“दुःख में सुमिरन सब करे, सुख में करै न कोय, जो सुख में सुमिरन करे, दुःख काहे को होय।”

“तू-तू करू तो निकट है, दूर-दूर करू तो हो जाए, ज्यौं गुरु राखैं त्यौं रहै, जो देवै सो खाय।”

“दीपक सुंदर देख करि, जरि जरि मरे पतंग, बढ़ी लहर जो विषय की, जरत न मोरें अंग।”

” बंदे तू कर बंदगी, तो पावै दीदार, औसर मानुष जन्म का, बहुरि न बारम्बार।”

“कस्तूरी कुंडल बसे, मृग ढूंढत बन माहि, ज्यो घट घट राम है, दुनिया देखे नाही।”

“चिंता ऐसी डाकिनी, काट कलेजा खाए, वैद बेचारा क्या करे, कहा तक दवा लगाए।”

“सुख के संगी स्वारथी, दुःख में रहते दूर, कहैं कबीर परमारथी, दुःख सुख सदा हजूर।”

“भय से भक्ति करै सबै, भय से पूजा होय, भय पारस है जीव को, निर्भय होय न कोय।”

“झूठा सब संसार है, कोउ न अपना मीत, राम नाम को जानि ले, चलै सो भौजल जीत।”

“रात गंवाई सोए के, दिवस गवाया खाय, हीरा जन्म अनमोल था कोडी बदले जाए।”

“बार-बार तोसों कहा, रे मनवा नीच, बंजारे का बैल ज्यौं, पैडा माही मीच।”

“पाहन केरी पूतरी, करि पूजै संसार, याहि भरोसे मत रहो, बूडो काली धार।”

“न्हाए धोए क्या भय, जो मन मैला न जाए, मीन सदा जल में रहै, धोए बास न जाए।”

“जब गुण को गाहक मिले, तब गुण लाख बिकाई, जब गुण को गाहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई।”

“पानी कर बुदबुदा, अस मानुस की जात,एक दिन छिप जाएगा, ज्यौं तारा परभात।”

“कबीर मंब पंछी भया, जहाँ मन तहां उडी जाई, जो जैसी संगती कर, सो तैसा ही फल पाई।”

“जब मैं था तब हरि नहीं, अब हरि है मैं नाही, सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही।”

“इक दिन ऐसा होइगा, सब सूं पड़े बिछोह, राजा राणा छत्रपति, सावधान किन होय।”

“साधू ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय, सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।”

“कबीर संगत साधू की, निज प्रति कीजै जाए,

दुरमति दूर बहावासी, देशी सुमति बताय।”

“कनक-कनक तै सौ गुनी मादकता अधिकाय, वा खाए बौराए जग, या देखे बौराए।”

“जो तोको कांटा बुवै ताहि बोव तू फल, तोहि फूल को फूल है वाको है तिरसूल।”

“कबीरा ते नर अंध है, गुरु को कहते और, हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर।”

“कहैं कबीर देय तू, जब लग तेरी देह, देह खेह होय जाएगी, कौन कहेगा देह।”

“देह खेह होय जाएगी, कौन कहेगा देह, निश्चय कर उपकार ही, जीवन का फन येह।”

“या दुनिया दो रोज की, मत कर यासो हेत, गुरु चरनन चित लाइए, जो पूरण सुख हेत।”

“गाँठी होय सो हाथ कर, हाथ होय सो देह, आगे हाट न बानिया, लेना होय सो लेह।”

“धर्म किए धन न घटे, नदी न घट नीर, अपनी आखों देखिले, यों कथि कहहिं कबीर।”

“कबीर तहां न जाइए, जहाँ सिद्ध को गाँव, स्वामी कहै न बैठना, फिर-फिर पूछै नाँव।”

Disclaimer: These quotes are taken from the Internet.

Also Read: Sant Kabirdas Status Images, Messages In Hindi And English: Sant Kabir Jayanti

Suketu K G

Bollywood buff, OTT fanatic, Sports enthusiast, budding tech-geek. Hello readers, this is Suketu. All the articles on AllTimeTrends that you read are written by me. I also like to write about all that is trending on social media. When not writing, I'm mostly travelling, binge-watching, or discovering new dishes on the streets of Mumbai!